• गहलोत ने प्रदेश में कोरोना संक्रमण नियंत्रित करने के लिए प्रयासों और उनके नतीजों का जिलावार गहन अध्ययन करने के निर्देश दिए
  • राजस्थान में कोरोना से अब तक 172 लोगों की मौत हुई है। इनमें जयपुर में सबसे ज्यादा 87 (जिसमें चार यूपी से) की मौत हुई

जयपुर. राजस्थान में बुधवार को कोरोना के 109 नए मामले सामने आए। इनमें झालावाड़ में 64, कोटा में 16, नागौर में 12, जयपुर और भरतपुर में 6-6, झुंझुनू में 2, बीकानेर, करौली और दौसा में 1-1 संक्रमित मिला। जिसके बाद कुल संक्रमितों का आंकड़ा 7645 पहंच गया। वहीं, जयपुर में दो लोगों की मौत भी हो गई। जिसके बाद मौतों का कुल आंकड़ा 172 पहुंच गया।

लॉकडाउन से पीड़ित जनता को नकद पैसा ट्रांसफर करने की जरूरत: सीएम

कांग्रेस ने लॉकडाउन से प्रभावित लोगों के खातों में नकद पैसा ट्रांसफर करने की मांग तेज कर दी है। राहुल गांधी की प्रेस कांफ्रेंस के बाद सीएम अशोक गहलोत ने ट्वीट करके राहुल गांधी की ओर से उठाए गए मुद्दों का समर्थन करते हुए केंद्र सरकार पर सवाल उठाए। अशोक गहलोत ने राहुल की लाइन लेते हुए लॉकडाउन से प्रभावित लोगों के खातों में पैसा ट्रांसफर करने की मांग की।

‘अब तक की रणनीति-नतीजों का जिलावार अध्ययन होगा’

सीएम अशोक गहलोत ने प्रदेश में कोरोना संक्रमण नियंत्रित करने के लिए अब तक किए गए सभी प्रयासों और उनके नतीजों का जिलावार गहन अध्ययन करने के निर्देश दिए हैं। ताकि भविष्य में इस बीमारी से लड़ने और संक्रमण बढ़ने की आशंका से निपटने के लिए बेहतर योजना बनाई जा सके। गहलोत ने कहा कि प्रदेश के अधिकतर जिलों से मरीजों को बड़े अस्पतालों में नहीं भेजना पड़ा, यह हमारी रणनीति और बेहतर स्वास्थ्य सुविधाओं को लेकर अच्छा संकेत है। आगे भी हमें इसी मिशन के साथ इस चुनौती से लड़ना है। सीएम ने कहा कि कुछ विशेषज्ञों द्वारा आने वाले दिनों में संक्रमितों की संख्या बढ़ने की आशंका जाहिर की जा रही है। ऐसे में सरकार की सजगता में किसी स्तर पर कमी न रहे। हर स्थिति से निपटने को पुख्ता प्रबंध हों। ग्रामीण क्षेत्रों में जनप्रतिनिधि और ग्राम पंचायत स्तर की निगरानी समितियां क्वारेंटाइन व्यवस्थाओं में पूरा सहयोग कर रही हैं। इससे संक्रमण रोकने में कामयाबी मिली है। क्वारेंटाइन सेंटरों की प्रभावी माॅनिटरिंग एवं यहां रह रहे लोगों की नियमित स्क्रीनिंग सुनिश्चित की जाए।

कोरोना के खिलाफ जयपुर को केंद्र ने रोल मॉडल चुना 

केंद्र ने कोरोना महामारी को नियंत्रित करने के मामले में जयपुर समेत Four शहरों को रोल मॉडल चुना है। तीन अन्य शहर इंदौर, चेन्नई और बेंगलुरु भी शामिल हैं। कुछ दिन पहले केंद्र ने कोरोना के सर्वाधिक संक्रमित और न्यूनतम मृत्यु दर वाले शहरों के नगर निकायों के साथ बैठक की थी। पाया गया कि जयपुर और इंदौर ने संक्रमितों के बढ़ते आंकड़ों को कंट्रोल किया। वहीं, चेन्नई और बेंगलुरु ने मृत्यु दर (1%) को बढ़ने नहीं दिया। जयपुर और इंदौर ने घर-घर सर्वे करवाकर और संक्रमितों की कॉन्टैक्ट हिस्ट्री का पता लगाकर कोरोना को कंट्रोल किया। जयपुर ने सुपर स्प्रेडर्स जैसे फल-सब्जी और किराना वालों को सीमित संख्या में लाइसेंस दिए ताकि फेरी वालों से घरों तक संक्रमण ना पहुंचे। वहीं, जयपुर निगम कर्मियों और पुलिस का निगरानी तंत्र भी मजबूत रहा। नियमित सैनिटाइजेशन का भी ध्यान रखा।

तस्वीर सीकर रेलवे स्टेशन की। जहां तेज गर्मी के बीच रवाना होने से पहले प्रवासी पानी भरवाते हुए।

जयपुर के एसएमएस के हैल्थ वर्कर्स लगातार पॉजिटिव आ रहे

एसएमएस अस्पताल के पैथोलॉजी लैब में कार्यरत टेक्निशियन और एमआरआई सेंटर में कार्यरत टेक्निशियन कोरोना पॉजिटिव आए हैं। इनके अलावा नर्सिंग स्टाफ की गेस्ट्रो वार्ड में ड्यूटी थी। 24 से वह होटल तीज में क्वारैंटाइन था और 25 मई को दिए गए सैम्पल में उसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। अब इस मेल नर्स को एसएमएस के ही कॉटेज में भर्ती किया गया है। इसके अलावा एक अन्य अस्पताल का नर्सिंग हेल्पर भी पॉजिटिव आया है। वह स्क्रीनिंग का काम कर रहा था। वहीं जयपुर में अब तक 97 हैल्थ वॉरियर्स कोरोना पॉजिटिव आ चुके हैं। इनमें 25 डॉक्टर, 40 नर्सिंग कर्मी व स्वास्थ्य कर्मी शामिल हैं।

कोटा: गले में खराश हुई, सैंपल दिया तो पॉजिटिव आई रिपोर्ट

छावनी नगर निगम कॉलोनी का ही 16 साल का बालक भी संक्रमित पाया गया है। यह पूर्व में पॉजिटिव आ चुके लोगों का रिश्तेदार है और संभवत: उन्हीं में से किसी के संपर्क में आकर संक्रमित हुआ है। इसके पिता फर्नीचर का काम करते हैं, जिनकी रिपोर्ट निगेटिव है। छावनी में ही सब्जीमंडी के पास रहने वाला 26 साल का युवक संक्रमित पाया गया है, इसका भाई बिजली विभाग में जेईएन है। परिजनों ने बताया कि फ्रिज में रखा केक खाने के बाद गले में खराश हुई और सैंपल दिया तो रिपोर्ट पॉजिटिव आ गई।

भीलवाड़ा में Three माह की हिमांशी ने जीती जंग
भीलवाड़ा जिले के सहाड़ा के डियास निवासी रमेश नाथ व उसकी तीन महीने की दूध मुंही बच्ची हिमांशी की कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई थीं। जबकि उसकी पत्नी और तीन व पांच साल की दो अन्य बच्चियाों की रिपोर्ट निगेटिव आई। तीन महीने की दूध मुंही बच्ची के लिए मां का दूध जरुरी था इसलिए मां से दूर रखना संभव नहीं था। डॉक्टर्स ने मां को बच्ची के पास रखने का प्लान किया लेकिन उसके साथ उसकी तीन व पांच साल की दो और बेटियां थीं। इन बच्चियों को कोई रिश्तेदार अपने पास रखने को राजी नहीं था। पॉजिटिव पिता व पॉजिटिव तीन महीने की बच्ची को एक कॉटेज रूम में शिफ्ट किया गया। तीनों निगेटिव यानी मां व अन्य दो बेटियों को पास ही के दूसरे कॉटेज रूम में रखा गया ताकि मां तीन महीने की बच्ची को दूध पिला सके। इसके बाद मां राेज कटाेरी में दूध निकालकर चम्मच से सावधानी पूर्वक पिलाती। डाॅक्टर्स की विशेष देखभाल में मां ने सुरक्षित तरीके से बच्ची काे दूध पिलाया अाैर बच्ची ने कोरोना पर जीत हासिल की। दूसरी व तीसरी जांच नेगेटिव आने पर बच्ची को मंगलवार काे डिस्चार्ज किया।

भीलवाड़ा में Three माह की बच्ची की रिपोर्ट पॉजिटिव से निगेटिव हुई।
  • प्रदेश में संक्रमण के सबसे ज्यादा केस जयपुर में हैं। यहां 1868 (2 इटली के नागरिक) संक्रमित हैं। इसके अलावा जोधपुर में 1325 (इनमें 47 ईरान से आए), उदयपुर में 517, कोटा में 412, डूंगरपुर में 331, नागौर में 416, अजमेर में 309, पाली में 360, चित्तौड़गढ़ में 174, टोंक में 159, जालौर में 154, भरतपुर में 149, भीलवाड़ा में 127, सिरोही में 139, राजसमंद में 126, बांसवाड़ा में 85, झुंझुनूं में 98, सीकर में 151, जैसलमेर में 82 (इनमें 14 ईरान से आए), बाड़मेर में 91, बीकानेर में 86, चूरू में 85, झालावाड़ में 135 मरीज मिले हैं।
  • उधर, दौसा में 46, अलवर में 51, धौलपुर में 43, सवाई माधोपुर में 19, हनुमानगढ़ में 14, प्रतापगढ़ में 13, करौली में 11 कोरोना मरीज मिल चुके हैं। बारां में 5 संक्रमित मिले हैं। श्रीगंगानगर में 2 पॉजिटिव मिला। जोधपुर में बीएसएफ के 50 जवान भी पॉजिटिव मिल चुके हैं। वहीं दूसरे राज्यों से आए 12 लोग पॉजिटिव मिले।
  • राजस्थान में कोरोना से अब तक 172 लोगों की मौत हुई है। इनमें जयपुर में सबसे ज्यादा 87 (जिसमें चार यूपी से) की मौत हुई। इसके अलावा, जोधपुर में 17, कोटा में 16, अजमेर, पाली और नागौर में 6-6, भरतपुर में 5, चित्तौड़गढ़ और सीकर में 4-4, बीकानेर में 3, जालौर, करौली, अलवर और भीलवाड़ा 2-2, राजसमंद, उदयपुर, बांसवाड़ा, चूरू, प्रतापगढ़, सवाई माधोपुर और टोंक में 1-1 की मौत हो चुकी है। वहीं दूसरे राज्य से आए तीन व्यक्ति की भी मौत हुई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here