लद्दाख के गलवां घाटी में बढ़ी तनातनी के बाद बिगड़ते हालातों के बीच भारत सरकार ने सोमवार देर शाम बड़ा फैसला लिया। देश में युवाओं के बीच काफी लोकप्रिय टिककॉक समेत 59 चीनी मोबाइल एप पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। 

चाइनीज एप के साथ प्राइवेसी को लेकर हमेशा से बवाल होता रहा है। भारत से लेकर अमेरिका तक की खुफियां एजेंसियां समय-समय पर लोगों को चाइनीज एप्स को लेकर आगाह करती रहती हैं। कुछ दिन पहले ही भारतीय खुफिया एजेंसियों ने भारत सरकार को 52 चाइनीज मोबाइल एप्स को ब्लॉक करने और लोगों को इस्तेमाल ना करने को कहा था।

चाइनीज एप के साथ प्राइवेसी को लेकर हमेशा से बवाल होता रहा है। भारत से लेकर अमेरिका तक की खुफियां एजेंसियां समय-समय पर लोगों को चाइनीज एप्स को लेकर आगाह करती रहती हैं। अब भारतीय खुफिया एजेंसियों ने भारत सरकार को 52 चाइनीज मोबाइल एप्स को ब्लॉक करने और लोगों को इस्तेमाल ना करने को कहा है।

TikTok, Vault-Disguise, Vigo Video, Bigo Dwell, Weibo, WeChat, SHAREit, UC Information, UC Browser, BeautyPlus, Xender, ClubFactory, Helo, LIKE, Kwai, ROMWE, SHEIN, NewsCanine, Photograph Marvel, APUS Browser, VivaVideo- QU Video Inc, Good Corp, CM Browser, Virus Cleaner (Hello Safety Lab), Mi Neighborhood, DU recorder, YouCam Make-up, Mi Retailer, 360 Safety, DU Battery Saver, DU Browser, DU Cleaner, DU Privateness, Clear Grasp – Cheetah, CacheClear DU apps studio, Baidu Translate, Baidu Map, Marvel Digital camera, ES File Explorer, QQ Worldwide, QQ Launcher, QQ Safety Centre, QQ Participant, QQ Music, QQ Mail, QQ NewsFeed, WeSync, SelfieCity, Conflict of Kings, Mail Grasp, Mi Video call-Xiaomi, Parallel House

टिकटॉक- TikTok, शेयरइट- Shareit, कवाई- Kwai, यूसी ब्राउजर- UC Browser, बायडू मैप- Baidu map, शेन- Shein, क्लैश ऑफ किंग्स- Conflict of Kings, डीयू बैटरी सेवर- DU battery saver, हेलो- Helo, लाइकी- Likee, यूकैम मेकअप- YouCam make-up, एमआई कम्युनिटी- Mi Neighborhood, सीएम ब्राउजर- CM Browers, वायरस क्लिनर- Virus Cleaner, आपुस ब्राउजर- APUS Browser, रोमवी- ROMWE, क्लब फैक्ट्री- Membership Manufacturing unit, न्यूजडॉग- Newsdog, ब्यूटी प्लस- Beutry Plus, वीचैट- WeChat, यूसी न्यूज- UC Information, क्यूक्यू मेल- QQ Mail, वीबो- Weibo, जेंडर- Xender, क्यूक्यू म्यूजिक- QQ Music, क्यूक्यू न्यूज फीड- QQ Newsfeed, बिगो लाइव- Bigo Dwell, सेल्फीसिटी- SelfieCity, मेल मास्टर- Mail Grasp, पैरलल स्पेस- Parallel House, एमआई वीडियो कॉल- Mi Video Name–Xiaomi, वीसिंक- WeSync, ईएस फाइल एक्सप्लोरर- ES File Explorer, वीवा वीडियो- Viva Video–QU Video Inc, मीतू- Meitu, वीगो वीडियो- Vigo Video, न्यू वीडियो स्टेटस- New Video Standing, डीयू रिकॉर्डर- DU Recorder, वॉल्ट हाइड- Vault- Disguise, कैशे क्लिनर- Cache Cleaner-DU App studio, डीयू क्लिनर- DU Cleaner, डीयू ब्राउजर- DU Browser, हगो प्ले विद न्यू फ्रेंड्स- Hago Play With New Mates, कैम स्कैनर- Cam Scanner, क्लिन मास्टर- Clear Grasp– Cheetah Cellular, वंडर कैमरा- Marvel Digital camera, फोटो वंडर- Photograph marvel, वी मीट- We Meet, स्वीट सेल्फी- Candy Selfie, बायडू ट्रांसलेट- Baidu Translate, वीमैट- Vmate, क्यूक्यू इंटरनेशनल- QQ Worldwide, क्यूक्यू सिक्योरिटी सेंटर- QQ Safety Middle, क्यूक्यू लॉन्चर- QQ Launcher, यू-वीडियो- U Video, वी फ्लाई स्टेटस वीडियो- V fly Standing Video, मोबाइल लिजेंड्स- Cellular Legends, डीयू प्राइवेसी- DU Privateness

इन एप्स के जरिए भारतीय मोबाइल यूजर्स की निजी जानकारियां चीन में मौजूद सर्वर पर जा रही थी। सरकार को एजेंसियों ने जिन एप्स की लिस्ट की भेजी थी उसमें वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग एप जूम, शॉर्ट-वीडियो एप टिकटॉक, यूसी ब्राउजर, जेंडर, शेयरइट और क्लीन-मास्टर जैसे एप्स के नाम थे। प्रत्येक मोबाइल एप से जुड़े मापदंडों और जोखिमों को बारिकी से जांच किया जा रहा है।
 
बता दें कि इसी साल अप्रैल में गृह मंत्रालय ने जूम की प्राइवेसी को लेकर आगाह किया था। जूम वीडियो कॉलिंग एप पर रोक लगाने वाला केवल भारत ही नहीं है। भारत से पहले अमेरिका जैसे देशों में भी जूम पर प्रतिबंध लग चुका है। टेस्ला और फेसबुक ने अपने कर्मचारियों को जूम इस्तेमाल करने से मना किया था। ताइवान ने भी जूम के इस्तेमाल पर रोक लगाई थी। 

अधिकारियों ने कहा कि ऐसे इनपुट थे कि कई Android और IOS एप, या तो चीनी डेवलपर्स द्वारा तैयार किए गए थे या चीनी लिंक वाली कंपनियों द्वारा लॉन्च किए गए थे, जिनमें स्पाइवेयर या अन्य मैलवेयर के रूप में उपयोग करने की क्षमता थी। 

लद्दाख के गलवां घाटी में बढ़ी तनातनी के बाद बिगड़ते हालातों के बीच भारत सरकार ने सोमवार देर शाम बड़ा फैसला लिया। देश में युवाओं के बीच काफी लोकप्रिय टिककॉक समेत 59 चीनी मोबाइल एप पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। 

चाइनीज एप के साथ प्राइवेसी को लेकर हमेशा से बवाल होता रहा है। भारत से लेकर अमेरिका तक की खुफियां एजेंसियां समय-समय पर लोगों को चाइनीज एप्स को लेकर आगाह करती रहती हैं। कुछ दिन पहले ही भारतीय खुफिया एजेंसियों ने भारत सरकार को 52 चाइनीज मोबाइल एप्स को ब्लॉक करने और लोगों को इस्तेमाल ना करने को कहा था।

चाइनीज एप के साथ प्राइवेसी को लेकर हमेशा से बवाल होता रहा है। भारत से लेकर अमेरिका तक की खुफियां एजेंसियां समय-समय पर लोगों को चाइनीज एप्स को लेकर आगाह करती रहती हैं। अब भारतीय खुफिया एजेंसियों ने भारत सरकार को 52 चाइनीज मोबाइल एप्स को ब्लॉक करने और लोगों को इस्तेमाल ना करने को कहा है।


आगे पढ़ें

सरकार ने इन 52 एप्स को लेकर जारी किया था एलर्ट

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here