• पंजाब में कोरोना वायरस से अब तक 2301 लोग संक्रमित पाए गए हैं और इनमें से 48 की मौत हो चुकी है
  • बीते कुछ दिनों से राज्य में दी गई राहत के चलते 78 प्रतिशत उद्योगों में काम शुरू हुआ, करीब 68 फीसदी कामगार लौटे

दैनिक भास्कर

Could 30, 2020, 10:03 PM IST

अमृतसर. पंजाब सरकार ने राज्‍य में लॉकडाउन को four सप्ताह तक और बढ़ाने का फैसला किया है। अब राज्य में 30 जून तक लॉकडाउन की स्थिति रहेगी। हालांकि मुख्‍यमंत्री कैप्‍टन अमरिंदर सिंह ने शनिवार रात केंद्र सरकार द्वारा घोषित अनलॉक-1 के अनुरूप कुछ छूट देने की भी घोषणा भी की है। दरअसल, राज्‍य में लॉकडाउन 31 मई को समाप्‍त हो रहा था। इसके मद्देनजर आगे के कदम के बारे में सलाह देने के लिए मुख्‍यमंत्री कैप्‍टन अमरिंदर सिंह ने विशेषज्ञ कमेटी का गठन किया था।

इस कमेटी ने मुख्‍यमंत्री को अपनी रिपोर्ट सौंप दी और इसके बाद कैबिनेट से सलाह के बाद सीएम कैप्‍टन अमरिंदर ने राज्‍य में लॉकडाउन 5.zero की घोषणा की। विशेषज्ञ कमेटी ने राज्‍य में मॉल आदि खोलने पर असहमति जताई। कैप्‍टन अमरिंदर ने कहा कि पंजाब में लॉकडाउन बढ़ाने के दौरान लोगों को कोरोना सुरक्षा प्रोटोकॉल का कड़ाई से करना होगा

उधर, पंजाब में कोरोना से अब तक 2301 लोग संक्रमित पाए गए हैं और इनमें से 48 की मौत हो चुकी है। बीते कुछ दिनों से राज्य में दी गई राहत के चलते 78 प्रतिशत उद्योगों में काम शुरू हो गया है। इनमें करीब 68 फीसदी कामगार लौट आए हैं। बीते दिन उद्योगपतियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के दौरान मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने उद्योगों में काम शुरू होने पर संतोष जताते हुए सरकार की ओर से पूरे सहयोग का भरोसा दिलाया। फिलहाल ऐसे हैं प्रदेश के विभिन्न इलाकों के हालात…

जालंधर में विभिन्न इलाकों में पुलिस ने तो अपने बैरिकेड्स हटा लिए, लेकिन शहर के लोगों द्वारा लगाए बांस आदि अभी ज्यों के त्यों हैं। हालांकि इनमें से कई इलाके तो कोरोना मुक्त हो गए हैं। अब जब शहर खुलने लगा है तो लोग इसका विरोध कर रहे हैं। सबसे ज्यादा परेशानी तो उन इलाकों में हैं, जिनकी गलियां मुख्य मार्ग को निकलती हैं। दूसरे इलाकों से आने वाले लोग जब इन गलियों से निकलते हैं तो या उनको रास्ते बंद मिलते हैं या उतनी ही जगह मिलती है, जिसमें से एक वाहन ही निकल सके।

अमृतसर में सड़क किनारे पेट भरने की जुगत में लगा परिवार। लॉकडाउन के नियम का उल्लंघन कर मकान मालिक की तरफ से निकाल दिए जाने पर तीन दिन से इसी तरह एक चौक से दूसरे चौक पर भटक रहे हैं।

अमृतसर में किराये पर रह रहे एक मजदूर के परिवार को मकान मालिक ने घर से निकाल दिया। अब यह परिवार अपने सामान की पेटियां बांधकर सड़कों पर रहने को मजबूर है। गुरदासपुर के कस्बा कलानौर के रहने वाले सुरेंद्र सिंह ने बताया कि लॉकडाउन से पहले वह काम के सिलसिले में पत्नी, दो भाई काला व पप्पू के साथ अमृतसर आया था। सब लोग यहां गुरुद्वारा शहीदां साहिब के पास सब्जी मंडी क्षेत्र में किराये के एक मकान में रह रहा था। लगभग दो महीने रहने के बाद मालिक ने घर से निकलने को बोल दिया। अब तीन दिन से अपना सामान उठाकर कभी किसी चौक तो कभी किसी चौक पर दो ईंटों का चूल्हा बनाकर अपना जीवन बसर कर रहे हैं। रात में कई बार पुलिस भी तंग करने लग जाती है।

लुधियाना शहर से प्रवासियाें को लेकर जाएंगी सात ट्रेनें, सुबह से पहुंचे लोग
लुधियाना से शनिवार को सात ट्रेनें जाएंगी। इनमें कटनी (स्टॉपेज ग्वालियर और बीना), बरकाखाना (स्टॉपेज धनबाद, डालटनगंज), कटिहार (स्टापेज पूर्णिया, बेगुसराय व गोंडा), आरा या भोजपुर (स्टॉपेज पटना, हरदोई, लखनऊ व बक्सर), औरंगाबाद (स्टॉपेज गया, हरदोई, लखनऊ, सुलतानपुर व भभुआ), दरभंगा (स्टॉपेज मधुबनी, बरेली, गोरखपुर, मुजफ्फरपुर, समस्तीपुर) और खगड़िया (स्टॉपेज सहरसा, इटावा, डीडीयू, छपरा और हाजीपुर) शामिल हैं। इसी के चलते बिहार, मध्य प्रदेश और झारखंड जाने वाले लोगों को सुबह 10 बजे गुरु नानक स्टेडियम में बुलाया गया था। दूसरी ओर लोग इससे भी घंटों पहले पहुंच गए। डिप्टी कमिश्नर प्रदीप अग्रवाल ने बताया कि अब तक आठ लाख लोगों ने रजिस्ट्रेशन करवाया था और उनमें से तीन लाख ट्रेन से जा चुके हैं।

दुकानदारों और राहगीरों को नाके पर रोककर बिना मास्क घूमने पर 17 चालान
पठानकोट जिले में लगातार बढ़ रहे कोरोना मामलों को देखते हुए पुलिस ने सलारिया चौक पर नाकाबंदी कर बिना मास्क घूमने वाले लोगों को रोका। 17 के चालान काटे। डीएसपी सिटी राजेंद्र मन्हास के नेतृत्व में इस अभियान की शुरुआत करते पुलिस टीम की ओर से स्थानीय दुकानदारों और राहगीरों को रोका गया। संतोषजनक जवाब न देने की सूरत में पुलिस ने उनके चालान काटे।

शंभू बॉर्डर पर नहीं हो रही पंजाब में एंट्री करने वालों की स्क्रीनिंग
पंजाब के स्वास्थ्य विभाग ने हरियाणा की सीमा पर शंभू में लोगों की मेडिकल स्क्रीनिंग के लिए तैनात सेहत टीम को वापस बुला लिया है। अब बिना स्क्रीनिंग लोग प्रदेश में आ रहे हैं। इस आशंका से इनकार नहीं किया जा सकता कि अगर कोई कोरोना संदिग्ध हुआ तो संक्रमण और फैल सकता है। शंभू बॉर्डर पर तैनात शिक्षा विभाग के नोडल अफसर हरप्रीत सिंह ने बताया कि उनकी टीम हर व्यक्ति की ट्रैवल हिस्ट्री का रिकॉर्ड बनाती है। अब यहां किसी की स्क्रीनिंग नहीं हो रही है। वहीं शंभू बॉर्डर से टीम हटाने के संबंध में सिविल सर्जन डॉ. हरीश मल्होत्रा ने कहा कि उच्चाधिकारियों के आदेश के बाद ही टीम हटाई गई है।

नाभा में तहसीलदार सुखजिदर सिंह टिवाना को मांगपत्र सौंपते लाइट, साउंड एंड डीजे एसोसिएशन के सदस्य।

नाभा में लाइट, साउंड एंड डीजे एसोसिएशन ने दुकानें खोलने की अनुमति मांगी
उधर, नाभा में लाइट, साउंड एंड डीजे वालों ने एसोसिएशन के अध्यक्ष अमन कलसी के नेतृत्व में एक मांगपत्र तहसीलदार सुखजिदर सिंह टिवाना को सौंपा। इन लोगों का कहना है कि इस व्यवसाय से हजारों लोगों को आजीविका चल रही है। काम बंद होने की वजह से घरों में राशन नहीं है। दुकानों और घरों का किराया भी नहीं दे पा रहे हैं। सरकार उन्हें भी समय-समय पर दुकानें खोलने की इजाजत दे, जिससे गुजर चल सके।

गुरदासपुर जिले के कस्बा दीनानगर में रोड मार्च करता पुलिस बल। पुलिस ने लोगों को कोरोना की महामारी से बचने के लिए नियमों का पालन करने के संबंध में जागरूक किया।

गुरदासपुर जिले के कस्बा दीनानगर इलाके में पुलिस बल ने डीएसपी महेश सैनी के नेतृत्व में फ्लैग मार्च निकाला। इस दौरान थाना प्रभारी बलदेव राज शर्मा भी मौजूद थे। इस दौरान लोगों को शारीरिक दूरी का ध्यान रखने और बाहर निकलते समय मुंह पर मास्क पहने के लिए अपील की जा रही थी। उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कि यदि लोगों ने जिला प्रशासन के आदेशों का पालन नहीं किया उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

तरनतारन में गांव मुगलचक्क पन्नुआं के बाशिंदे राशन की ट्रॉली को घेरे हुए। इनका आरोप है कि कांग्रेस के समर्थकों को ही राहत दी जा रही है, आम पब्लिक से सरकार को कोई लेना-देना नहीं।

तरनतारन में गांव मुगलचक्क पन्नुआं के लोगों ने प्रशासन पर आरोप लगाया कि कांग्रेस पार्टी से संबंधित लोगों को ही राशन दिया जा रहा है। प्रशासन द्वारा लोगों को जब गेहूं बांटने की मुहिम शुरू की गई तो गांव के कई लोगों के नाम रद्द किए गए थे। इस पर ग्रामीणों ने विरोध करते हुए राशन वाली ट्रॉली घेरकर सरकार खिलाफ प्रदर्शन किया।

नेतृत्व कर रहे देहाती मजदूर सभा के नेता इंद्रजीत सिंह संधू ने कहा कि लॉकडाउन के दौरान गरीबों को राशन मुहैया नहीं करवाया गया है। उल्टा सस्ते दाम पर मिलने वाली गेहूं बंद कर दी गई है। अब मोदी सरकार द्वारा जारी की गई गेहूं और दाल की योजना से दूर किया जा रहा है।

दूसरी तरफ पट्‌टी के कुल्ला चौक पर ट्रैफिक पुलिस ने इंस्पेक्टर गुरप्रीत सिंह की अगुआई में नाकाबंदी करके वाहनों की चेकिंग की। मास्क नहीं पहनने वाले नौ लोगों के 200-200 चालान काटे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here